लाखों लोगों द्वारा डाउनलोड किए गए फेसबुक पर प्रचारित किए जा रहे खतरनाक ऐप्स से सावधान रहें

0
10


हाइलाइट

हैकर्स फेसबुक पर खतरनाक ऐप्स को प्रमोट कर रहे हैं।
इन ऐप्स को लाखों लोग डाउनलोड कर चुके हैं।
जैसे ही आप ऐप डाउनलोड करते हैं हैकर्स आपके व्यक्तिगत डेटा तक पहुंच जाते हैं।

नई दिल्ली। फेसबुक पर आने वाले कई ऐप के बारे में जानकारी सामने आई है, ये ऐप एंड्रॉइड यूजर्स के फोन में वायरस डाल रहे हैं और हैकर्स फेसबुक मार्केटिंग के जरिए इनका प्रचार कर रहे हैं। चिंता की बात यह है कि इन ऐप्स को अब तक लाखों लोग डाउनलोड कर चुके हैं। साइबर एक्सपर्ट्स के मुताबिक उन्हें 12 ऐसे ऐप मिले हैं, जिन्हें 70 लाख से ज्यादा लोगों ने डाउनलोड किया है.

McAfee के साइबर विशेषज्ञों का दावा है कि जैसे ही यूजर्स इन ऐप्स को डाउनलोड करते हैं, उनके फोन की निजी जानकारी हैकर्स के सामने आ जाती है। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक पर ऐसे दर्जनों ऐप हैं और उनका प्रचार भी किया जा रहा है। सुरक्षा विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि इन ऐप्स के कारण लाखों यूजर्स का निजी डेटा हैकर्स के हाथों में आ सकता है।

ये ऐप्स क्या हैं?
McAfee ने ऐसे 12 ऐप्स का खुलासा किया है जिनमें एडवेयर, स्पाईवेयर और मैलवेयर पाए गए हैं। इनमें से अधिकांश क्लीनिंग ऐप्स हैं, जिन्हें उपयोगकर्ता डिवाइस की दूषित फ़ाइलों को साफ़ करने के लिए इंस्टॉल करते हैं, ताकि डिवाइस का प्रदर्शन बेहतर हो सके। इन ऐप्स में जन क्लीनर, ईज़ीक्लीनर, पावर डॉक्टर, सुपर क्लीन, फुल क्लीन – क्लीन कैशे, फिंगरटिप क्लीनर, क्विक क्लीनर, कीप क्लीन, विंडी क्लीन, कारपेट क्लीन, कूल क्लीन स्ट्रॉन्ग क्लीन और उल्का क्लीन शामिल हैं।

यह भी पढ़ें- काम की बात: आधार बायोमेट्रिक डिटेल्स को ऑनलाइन कैसे करें लॉक-अनलॉक, जानें स्टेप बाय स्टेप

ऐप प्ले स्टोर पर भी लिस्टेड हैं
साइबर एक्सपर्ट की रिपोर्ट के मुताबिक, फेसबुक पर विज्ञापित ऐप्स में न केवल एडवेयर बल्कि स्पाईवेयर (स्पाइवेयर) और मैलवेयर (वायरस) भी होते हैं। साइबर क्रिमिनल्स यूजर्स को बरगलाने के लिए अपना नाम और आइकन बदलकर इन ऐप्स का विज्ञापन कर रहे हैं। हैरानी की बात यह है कि ये खतरनाक ऐप्स एक नए नाम के साथ Google Play Store पर भी लिस्ट हो रहे हैं।

इसे लाखों लोगों ने डाउनलोड किया है
इस ऐप को अब तक लाखों लोग डाउनलोड कर चुके हैं। ये ऐप सबसे ज्यादा साउथ कोरिया, जापान और ब्राजील में डाउनलोड किए जाते हैं। हालांकि राहत की खबर यह है कि गूगल प्ले स्टोर से फर्जी ऐप्स को हटा रहा है। ऐसे में गूगल इन ऐप्स को प्ले स्टोर से हटा सकता है।

टैग: ऐप्स, गूगल प्ले स्टोर, प्रौद्योगिकी समाचार, टेक समाचार हिंदी में, तकनीकी



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here