मेरठ : नेत्रहीन माता-पिता को कंधों पर उठाये गाज़ियाबाद के श्रवण कुमार

0
6


हाइलाइट

नेत्रहीन माता-पिता के लिए हरिद्वार से पानी लाया गया।
जिला पंचायत अध्यक्ष गौरव चौधरी।

मेरठ। सावन के महीने में उत्तर प्रदेश में कई जगहों पर कांवड़ियां नजर आती हैं। इनमें कुछ ऐसे भी हैं, जो सबका ध्यान अपनी ओर खींच रहे हैं। ये हैं कलियुगी श्रवण कुमार, जो इस पावन महीने में अपने माता-पिता को अपने कंधों पर बिठा रहे हैं। ऐसा ही एक उदाहरण मेरठ में कांवड़ यात्रा के दौरान देखने को मिला। इधर, गाजियाबाद के लोनी के विकास गहलोत हरिद्वार से अपने नेत्रहीन माता-पिता को कंवर में कंधे पर बिठाकर पानी लेकर आए। विकास के मुताबिक बुजुर्ग माता-पिता को चलने में दिक्कत होती है। इसके अलावा दोनों नेत्रहीन हैं। ऐसे में कलियुग के श्रवणकुमार ने उन दोनों को अपने कंधों पर लेकर यात्रा करने का निश्चय किया।

सम्मानित
जिला पंचायत अध्यक्ष गौरव चौधरी अपने क्षेत्र व कांवड़ यात्रा का जायजा ले रहे थे. इसी बीच उनकी नजर कलियुग के श्रवण कुमार विकास गहलोत पर पड़ी। वह रुक गया और कुँवारियों का सम्मान किया। विकास गहलोत से बात की, उनका हालचाल जाना और जरूरी सामान मुहैया कराया। इसके अलावा जिला पंचायत अध्यक्ष ने भी इस कलियुग में नकद देकर श्रवण कुमार का उत्साहवर्धन किया। जिला पंचायत अध्यक्ष गौरव चौधरी ने राय व्यक्त की कि ऐसे लोग समाज के लिए प्रेरणा स्रोत हैं।

मुस्लिम समुदाय ने पेश की मिसाल
वहीं मुस्लिम समुदाय ने रविवार को कई जगहों पर कांवड़ियों पर फूल बरसाकर मिसाल पेश की. मुस्लिम समुदाय के लोग शिविर लगाने और दूल्हे की सेवा करने के लिए तैयार थे। मुस्लिम भाइयों ने गले मिलकर दुल्हन का स्वागत किया। मुस्लिम समुदाय के लोग फल, फूल, भोजन आदि देकर स्वयं के आभारी थे। उन सभी ने कहा कि विश्वास में शक्ति है, और इस शक्ति के आगे झुक जाओ।

टैग: गाजियाबाद समाचार, कावर यात्रा, मक्खन समाचार, मेरठ से समाचार, सावन



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here