मार्कशीट जलने के मामले में डॉ. भीमराव अंबेडकर विवि के पूर्व कुलपति समेत नौ लोगों पर आरोप दर्ज

0
19


आगरा। डॉ. भीमराव अंबेडकर विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति को राहत नहीं मिली है. मार्कशीट जलाने के गंभीर आरोप में अब पूर्व कुलपति समेत नौ लोगों पर कोर्ट में मामला दर्ज किया गया है. दरअसल मामला यूनिवर्सिटी के इतिहास विभाग के कर्मचारी वीरेश कुमार का है. वीरेश ने विशेष सीजेएम कोर्ट में अर्जी दाखिल की थी। कर्मचारी की ओर से दाखिल आवेदन में आरोप लगाया गया है कि 2015 से इतिहास विभाग पिछले वर्ष के अंकों में त्रुटियों को ठीक करने का काम कर रहा है. यह कार्य डॉ. बी.डी. शुक्ला एवं डॉ. अनिल वर्मा के मार्गदर्शन में प्रारंभ किया गया। शासन स्तर पर भी मामले की जांच की गई। वीरेश ने आवेदन में कहा कि 12 दिसंबर 2020 को इतिहास विभाग में मौजूद संदिग्ध फॉर्म को तीनों ने जला दिया.

एक आरोप है
पूर्व कर्मचारी वीरेश कुमार ने आरोप लगाया है कि प्रा. बाहर जले हुए कागज को देखकर अनिल वर्मा ने उसे आने के लिए कहा। वहां पहुंचकर कुलपति भी उसी समय पहुंचे। वीरेश का आरोप है कि उसने मार्कशीट जलाने की साजिश रची और अन्य तरीकों से फंसाकर नौकरी से निकाल दिया. इस संबंध में कर्मचारी ने कोर्ट में अर्जी लगाई थी। सुनवाई के दौरान विशेष मुख्य दंडाधिकारी ने पुलिस को शिकायत दर्ज करने का निर्देश दिया. अब 2 सितंबर की तारीख तय की गई है। वही पूर्व कर्मचारी वीरेश ने इन सभी के खिलाफ स्पेशल सीजेएम कोर्ट में अर्जी दाखिल की थी. आवेदन में कर्मचारी ने इन सभी पर साजिश और भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए 10 लाख रुपये की मांग की है.

आवेदन में इन लोगों के नाम दिए गए थे
कर्मचारी वीरेश ने कोर्ट में अर्जी दाखिल की थी। जिसमें उन पर साजिश रचने और फायरिंग करने का आरोप है. पूर्व कुलपति प्रा. अशोक मित्तल, प्रा. अनिल वर्मा, डॉ. बी.डी. शुक्ला, प्रा. यूसी शर्मा, प्रा. संजय चौधरी, सहायक रजिस्ट्रार पवन कुमार, अमृतलाल, मोहम्मद रईस और बृजेश श्रीवास्तव को आरोपित किया गया है.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here