नोएडा में डॉक्टर की लापरवाही, अस्पताल के बाहर मरीज की मौत

0
11


हाइलाइट

प्रकाश को पेशाब नहीं हो रहा था, पेट में दर्द और बुखार था।
दिन भर सीएमओ अपने नए कार्यालय में शिफ्टिंग में लगे रहे।

नोएडा। नोएडा के सेक्टर-30 स्थित जिला अस्पताल में डॉक्टर की लापरवाही का मामला सामने आया है. इलाज के लिए जिला अस्पताल आए दिल्ली के अलीपुर (बदरपुर) के प्रकाश की मौत हो गई। मौत से पहले प्रकाश कुछ घंटों के लिए अस्पताल के बाहर थे। उसके परिजन एंबुलेंस के लिए फोन करते रहे और बाद में हालत बिगड़ने पर उसकी मौत हो गई।

प्रकाश के तीन बच्चे हैं। पत्नी बोली अब बच्चे कैसे पालेंगे? फिलहाल यह मामला संज्ञान में आने के बाद जिलाधिकारी ने सिटी मजिस्ट्रेट को मौके पर भेजा. सीएमओ सुनील शर्मा को इस घटना की जानकारी नहीं थी। वरिष्ठ अधिकारियों की फटकार के बाद सीएमओ की नींद उड़ गई। दरअसल सीएमओ दिन भर अपने नए कार्यालय में जाने में लगे रहे।

पेट दर्द और तेज बुखार
सुबह पांच बजे प्रकाश अपनी पत्नी सरिता को लेकर जिला अस्पताल पहुंचे थे। पत्नी ने बताया कि प्रकाश को यूरिन, पेट दर्द और बुखार नहीं हो रहा था. आपात स्थिति में काफी मशक्कत के बाद यूरिनरी कैथेटर डाला गया। फिर रजिस्ट्रेशन के बाद ओपीडी में दिखाने गए। पत्नी का आरोप है कि वे प्रकाश को कमरा नंबर पांच में ले गए। वहां डॉक्टर ने इलाज से मना कर दिया। इसके बाद वे कमरा नंबर छह में गए। वहां डॉक्टर ने दवा लिखी और उसे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल रेफर कर दिया।

कोई एम्बुलेंस नहीं मिली
करीब दो घंटे तक वे एंबुलेंस का इंतजार करते रहे। प्रकाश की हालत दिन-ब-दिन बिगड़ती गई। इसके बाद प्रकाश अस्पताल के बाहर जमीन पर पड़ा था। परिवार को स्ट्रेचर तक नहीं मिला। हालत बिगड़ने पर पत्नी वापस आपातकालीन कक्ष में गई, लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी। प्रकाश की मौत के बाद से ही परिजन रो रहे हैं। पति की मौत से आहत पत्नी कई बार बेहोश हो गई। प्रकाश ओला में गाड़ी चलाता था।

टैग: नोएडा समाचार, उत्तर प्रदेश समाचार



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here