आगरा: महिला खिलाड़ियों ने क्रिकेट की पिच पर पसीना बहाया, देश में वर्ल्ड कप लाने का सपना

0
11


रिपोर्ट – हरिकान्त शर्मा

आगरा। आज भी छोटे शहरों और खासकर ग्रामीण इलाकों में लड़कियों के क्रिकेट को एक बेहतरीन करियर विकल्प के तौर पर नहीं देखा जाता है। हालांकि कई परिवार ऐसे भी हैं जहां लड़कियों को लड़कों से कम नहीं माना जाता है। इस बार आगरा की लड़कियां क्रिकेट की पिच पर पसीना बहा रही हैं। उनकी नजर में एक ही सपना है कि उनका भारतीय महिला क्रिकेट टीम में चयन हो और अपने देश के लिए विश्व कप जीत सकें।

आगरा की महिला क्रिकेटर पूनम यादव, दीप्ति शर्मा, हेमलता कला और प्रीति डिमारी पहले ही अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शहर और राज्य में अपना नाम बना चुकी हैं। मॉडल, आगरा फतेहाबाद रोड के लकावली गांव में आसपास के जिलों की कई लड़कियां क्रिकेट की पेचीदगियां सीख रही हैं.

कोच मनोज कुशवाहा के नेतृत्व में नए पौधे तैयार किए जा रहे हैं
आगरा सदर निवासी मनोज कुशवाहा सीनियर कोच हैं। वह पिछले 15 साल से खिलाड़ियों को क्रिकेट के गुर सिखा रहे हैं। उनके नेतृत्व में नई महिला क्रिकेट टीम का गठन हो रहा है. मनोज कुशवाहा पिछले 3 साल से लकवाली गांव में क्रिकेट अकादमी चला रहे हैं। इस एकेडमी में लड़कों के अलावा आसपास के जिलों की कई लड़कियां भी क्रिकेट की पेचीदगियां सीख रही हैं. आगरा की मशहूर क्रिकेटर पूनम यादव को भी लंबे समय तक मनोज कुशवाहा ने ही ट्रेनिंग दी थी। उनकी अकादमी में 14 साल से कम उम्र की कई लड़कियों के अलावा मथुरा, अलीगढ़ और आजमगढ़ जैसे जिलों की लड़कियां भी दिन-रात पसीना बहा रही हैं.

अब तक 18 से 20 लड़कियां बोर्ड ट्राफियां खेल चुकी हैं
क्रिकेट कोच मनोज कुशवाहा का कहना है कि अब तक 18 से 20 लड़कियां बोर्ड ट्राफियां खेल चुकी हैं। कई लड़कियां रेलवे में कार्यरत हैं। अकादमी फतेहाबाद रोड पर कर्नल ब्राइटलैंड स्कूल के पास लकावली गांव में संचालित है। क्रिकेट दो पालियों में पढ़ाया जाता है, सुबह और शाम। मनोज कुशवाहा का कहना है कि यहां चार्ज का कोई मानक नहीं है। सबसे पहले बच्चे की प्रतिभा को देखा जाता है। बच्चे में टैलेंट है तो उसे फ्री ट्रेनिंग भी देते हैं। लड़का हो या लड़की, उनका एकमात्र उद्देश्य अच्छे और होनहार खिलाड़ियों को जल्द से जल्द आगरा पहुंचाना है।

टैग: आगरा समाचार, क्रिकेट खबर, भारतीय महिला क्रिकेटर्स



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here